तालाब की बातें

तालाब की बातें
जल है तो जीवन है

शनिवार, 31 मई 2014

If congress wants to regain his ground?



D;k lgh esa dkaxzsl fQj ls [kM+h gksuk pkgrh gS
iadt prqosZnh
bl vkys[k dk bjknk drbZ ;g ugha gS fd ys[kd dks dkaxzsl ls dqN yxko gS &  esjh vkLFkk yksdra= esa gS vkSj l{e foi{k ds cxSj ,d LoLF; vkSj djxj yksdra= dh dYiuk dh ughs tk ldrhA 16oha yksdlHkk pquko ds urhts crkrs gSa fd lÙkk/kjh ny ds ckn lcls T;knk ] vkSj iwjs ns’k esa] gj jkT; o ftys esa oksV ikus okyk ,dek= ny dkaxzsl gh gS] ftl ij bl fo’kky ns’k ds nl djksM ls T;knk yksxksa us Hkjkslk trk;k gSA e/;izns’k ds ,d vutkus ls xkao esa ,d efgyk ljiap us dkaxzsl dh gj ls O;fFr gks dj [kqndq’kh dj yh] ns’k ds gtkjksa ?kj o yk[kksa psgjs bl gkj ls grk’k o mnkl jgsA lks] t:jh gS fd lÙkk/kkjh ny dh fujadq’krk ;k vuhfr ij fuxkg j[kus ;k ml ij jksd yxkus ds fy, ,d jk”Vªh; ny [kM+s jgus ds dkfcy rks gksA 
THE SEA EXPRESS 01 JUNE 2014http://theseaexpress.com/epapermain.aspx

gkykafd vkadM+ksa dks ckfjdh ls ns[ksa rks bl ns’k us dkaxzsl dks bruh cqjh rjg yrkM+k ugha gS& loky dsoy usr``Ro ;k uhfr;ksa ij gh gSA  caxky esa =.kewy dh 33 ;k vka/kz izns’k esa ok;,lvkj dh 10 lhVs a;k fQj egkjk”Vª es a,ulhih o dsjy dkaxszl ] gfj;k.kk tufgr dkaxzsl dks feys oksV dkaxzsl dks gh feys gSaA izR;sd jktuhfrd ny esa yksxksa dk vkuk&tkuk yxk jgrk gS] ysfdu chrs nks n’kd esa ftl rjg dkaxzsl ds ;s VqdM+s gq, gS] ;g usr``Ro ds izfr  vfo’okl ;k  etcwr idM+ uk gksus ls gh gq, gSa vkSj bu lHkh jkT; Lrj ds nyksa dk ewy xkS= vHkh Hkh dkaxzsl gSA  dkaxzsl dks lcls igys bl fc[kjko ds dkj.kksa dks [kkstus rFkk vius fcNqM+s lkfFk;ksa dks okfil ykus dh ;sktuk ij dke djuk pkfg,A gks ldrk gS] blesa ikVhZ ds dfri; iqjkus {k=iksa ds dqN futh fgr Vdjk,a] ysfdu laxBu dks vk/ks ntZu jkt;ksa esa ekspsZ ij okfil ykus ds fy, dkaxzsl ;fn dksbZ Hkh dher pqdk dj ;g dke djrh gS rks eku dj pysa fd fc[kjk] VwVk] tuk?kkj [kks pqdh dkaxzsl l{e foi{k cu ldsxhA
RAJ EXPRESS BHOPAL 04-06-2014http://epaper.rajexpress.in/Details.aspx?id=217899&boxid=1853893
Hkys gh dkaxzsl esa vkarfjd yksdra= ds uke ij ;qok dkaxzsl rFkk ,u,l;wvkbZ ds pqukoksa dks cM+h miyfC/k crk dj is’k fd;k x;k gks] ysfdu gdhdr ;g gS fd bu pquoksa us ikVhZ esa xqVckth] fHkrj?kkr vkSj ;gka rd fd nq’euh ds cht cks fn, gSaA bl rjg ds vkn’’kZ iz;ksx rHkh lkFkZd gksrs gSa[ tc ny vuq’kkflr gks] lefiZr dk;ZdrkZ gksa vkSj os Vhe Hkkouk ls dke djrs gksa*A dkaxzsl esa ;g lHkh ckrsa dHkh ugha jgha] usg:th ls ysdj bafnjkth rd vkSj vkt Hkh& dkaxzsl rkdroj usrkvksa dh x.ks’k ifjØek okyh ikVhZ gS] vkSj rHkh ny esa uk rks u;k usr~``Ro mHkj jgk gS vkSj uk gh dk;ZdrkZA
,d ckr vkSj foi{kh ny tkurs gSa fd dkaxzsl ikVhZ dk esxusV ;k xksan usg:&xka/kh ijfokj gS vkSj blh fy, igys lksfu;k xka/kh ds fons’kh ewy ds vkSj mlds ckn jkgqwy xka/kh dks iIiw] csodwQ ;k  vljghu djkj nsus dk vPNk izpkj fd;k x;k]A tkfgj gS fd foi{kh ny vius fojks/kh dh lcls cM+h rkdr dks gh detksj djuk pkgrh gSA gdhdr ;g gS fd jkgqy xka/kh dh jktuhfr esa dgh dksbZ xyrh ugha gS] ysfdu mUgsa ;g lkspuk pkfg, Fkk fd tc ,d rjQ yk[kksa dh HkhM+ ds lkFk  lHkk dh ppkZ gS rks ,sls esa 100 fjD’ks okyksa ls ckrphr oksV ugha fnyok ldrhA dkaxzsl dk ,d vkSj iz;ksx vlQy jgk] ftlesa ljdkj o ikVhZ dk psgjk vyx&vyx fn[kkuk FkkA tcfd Hkkrj esa turk ,d gh usr``Ro ns[kuk pkgrh gSA vius ikjaifjd oksV dks ikus ds fy, vc ikVhZ esa jkT; Lrj ds {k=i rS;kj dj dsanz ij ,d gh pSgjs ds iz;ksx dh rjQ ykSVuk gksxkA ,d ckr vkSj e/; izns’k esa lwph tkjh gksus ds ckn fHkaM ls mEehnokj HkkxhjFk izlkn ds Hkktik esa tkus dh lwpuk gksus tSlh xyfr;ka djus okyksa dks ?kj CkSBkuk gh Js;Ldj gksxkA
dkaxzsl dks ;g Hkh fopkj djuk gksxk fd os dkSu ls usrk Fks ftUgksaus rhu lky igys vUuk vkanksyu ls mits ljdkj&fojks/kh vlarks”k dh iwjh ;kstuk dks utjvankt fd;k ;k fQj mldh izfrjsk/k&;kstuk ugha cukbZA vkt eksnhth dhizpaM thr dh Hkwfedk vUuk vkanksyu ls gh fy[k nh xbZ Fkh] ftlesa jk”Vªh; Lo;alsod la?k dh lh/kh Hkwfedk Fkh] fQj ckck jkenso izlax gqvk] chp esa fuHkZ;k okyk fojks/k izdj.k----- vkSj ns[ksa vkanksyu ls fudys oh ds flag gksa ;k fQj jkenso ;k vke vkneh ikVhZ ds dbZ vU; usrk] ckn esa Hkktik ds vxz.kh psgjs cu x,A igys HkhM+ tksM+uk] mlesa ljdkj dh ukdkfe;ksa  dks fn[kk dj fojks/k dh Hkkouk iSNk djuk] fQj mlh HkhM+ dks eksnhth dh lHkkk esa ys tk dj mls viuk oksV cukus dh ;sktuk Hkktik dh mRÑ”V ;kstuk jgh] vkSj eneLr] turk ds ljksdkjksa ls foeq[k dkaxzslh ea=h vius laxBu ds fy, dqN ;ksxnku ugha dj ik,A ;g foMacuk gS fd cM+s ls cM+k dkaxzslh lksfu;k] jkgqy ;k fiz;adk dh ihB ij p< dj viuh lQyrk dh bckjr fy[kuk pkgrk gS] tcfd og vius dk;ZdrkZvksa rd ls uk dsoy nqO;Zogkj djrk gS] turk ls nwj gh jgrk gSA
chrh ljdkj us xjhc] xzkeh.kksa ds fy, cgqr lh dY;k.kdkjh ;sktuk,a cukbZ] ysfdu ;k rks ;kstuk,a /kjkry ;k fgrxzkgh rd igqaph ugha ;k fQj ikVhZ  mUgsa crkus esa vlQy jgh fd ;g dke fdldk gSA vly esa ljdkj esa cSBs yskx blds fy, ljdkjh veyksa ds Hkjksls cSBs jgs] tcfd ljdkjh deZpkjh  egaxkbZ ls csgky Fkk vkSj blh fy, og D;ksa dj ,slk djrkA ikVhZ ds dk;ZdrkZ cps ugha] muesa la?k”kZ dh {kerk dks nl lky dh ljdkj ds lq[k ls tax yxk nhA ;fn vc dkaxzsl pkgrh gS fd mldk vflrRo cpk jgs rks mls vius tehuh dk;ZdrkZvksa dks roTtks nsuk gksxkA ikVhZ usr``Ro dks lu 1977 ds ckn dh abfnjkth dk thoupfjr i<uk gskxk vkSj iwjs ns’k ds l?ku nkSjs] viuh chrh ljdkj ds dk;Z] ekStwnk ljdkj dh lQy uhfr;ksa esa mudh ljdkj Hkh Hkwfedk dh tkudkjh nsuk gksxkA
tehuh gdhdr ls :c: gksus ds fy, dkaxzsl dks vR;k/kqfud lapkj rduhd ds lkFk&lkFk ikjaifjd rjhdksa dk Hkh bLrseky djuk gksxkA fnYyh ls lVs xkft;kckn dh ,d vkyh’kku dkysuh jktsUnz uxj] ftldh vkcknh ,d yk[k ds vklikl gksxh] chrs pquko esa Hkktik] la?k dk dk;ZdrkZ gj ?j rd de ls de rhu ckj igqapk] pquko dh iphZ Hkh ckaVhA tcfd dkaxzsl ds mEehnokj fdlh NqVHkS;k usrk ds ?kj x,] mlds cPpksa ds LkFkk QksVks f[kapok, vkSj ykSV x,A etsnkj ckr ;g gS fd bykds esa jgus okys fyk Lrj ds dkaxzls ds inkf/kdkjh dkMZ Hksy gh frjaxs dk j[krs gksa] ysfdu oksV o izpkj ^^uhys >aMs** dk djrs gSaA ;g ckuxh gS fd ikVhZ ds dk;ZdrkZ fdl rjg QthZ gSa o pquko ds le; vius eqgYys esa Hkh ugha tkrs gSaA dkaxzsl dks vius cwFk dk;ZdrkZ dks ny ls tksM+ dj j[kus ds fy, dqN djuk gksxkA tku ysa fd dk;ZdrkZ dsooy fu”Bk ;k fopkj/kkjk ds dkj.k ny ls tqM+rk gS] ;fn mls lEeku ugha feysxk rks og  vius O;olk; ;k ifjokj dk le; ikVhZ dks nsus ds ckjs esa lkspsxk Hkh ughaA
dkaxzsl ;fn okLro esa viu efV;kesV gks xbZ izfr”Bk dks fQj ls f’k[kj ij ykuk pkgrh gS rks mls vkReeaFku] fcNM+s yksxksa dks okfil ykus] dk;ZdrkZ dks lEeku nsus ds dk;Z rRdky djus gksaxsA gkykafd vkt ikVhZ ftl gky esa mldks ns[krs gq, rks eksnhth dks lu 2019 ds pquko esa Hkh dksbZ pqukSrh ugha fn[k jgh gSA

शुक्रवार, 30 मई 2014

illegal bangladeshi must be send back immediatly

कब और कैसे बाहर होंगे घुसपैठिए

मुद्दा पंकज चतुव्रेदी
बंगाल में प्रचार के दौरान जब नरेंद्र मोदी ने कहा था यदि उनकी सरकार आएगी तो बांग्लादेशियों को उनके देश वापिस भेज दिया जाएगा तो उनके इस बयान का व्यापक स्वागत हुआ था। इन दिनों देश की सुरक्षा एजेंसियों के निशाने पर बांग्लादेशी हैं। उनकी भाषा, रहन-सहन और नकली दस्तावेज इस कदर हमारी जमीन से घुलमिल गए हैं कि उन्हें विदेशी सिद्ध करना नामुमकिन सा लगता है। किसी तरह सीमा के अंदर घुस आये ये लोग अपने देश लौटने को राजी नहीं होते हैं । इन्हें जब भी देश से बाहर करने की कोई बात हुई, सियासत व वोटों की छीना-झपटी में उलझ कर रह गई। गौरतलब है कि पूर्वोत्तर राज्यों में अशांति के मूल में अवैध बांग्लादेशी ही हैं। जनसंख्या विस्फोट से देश की व्यवस्था लडखड़ा गई है। देश के मूल नागरिकों के सामने मूलभूत सुविधाओं का अभाव दिनों-दिन गंभीर होता जा रहा है। ऐसे में गैरकानूनी तरीके से रह रहे बांग्लादेशी कानून को धता बता भारतीयों के हक बांट रहे हैं। ये लोग यहां के बाशिंदों की रोटी तो छीन ही रहे हैं, देश के सामाजिक व आर्थिक समीकरण भी इनके कारण गड़बड़ा रहे हैं।
RASHTIRY SAHARA 31-5-2014http://rashtriyasahara.samaylive.com/epapermain.aspx?queryed=9
 हाल में मेघालय हाईकोर्ट ने भी स्पष्ट कर दिया है कि1971 के बाद आए तमाम बांग्लादेशी यहां अवैध रूप से रह रहे हैं। अनुमानत: करीब दस करोड़ बांग्लादेशी यहां जबरिया रह रहे हैं। 1971 की लड़ाई के समय लगभग 70 लाख बांग्लादेशी आए थे। अलग देश बनने के बाद कुछ उनमें से लाख लौटे भी पर उसके बाद भुखमरी, बेरोजगारी के शिकार बांग्लादेशियों का हमारे यहां घुस आना जारी रहा। पश्चिम बंगाल, असम, बिहार, त्रिपुरा के सीमावर्ती जिलों की आबादी हर साल बढ़ रही है। नादिया जिले (प. बंगाल) की आबादी 1981 में 29 लाख थी जो 1986 में 45 लाख, 1995 में 60 लाख और आज 65 लाख पार कर चुकी है। बिहार में पूर्णिया, किशनगंज, कटिहार, सहरसा आदि जिलों की जनसंख्या में अचानक वृद्धि का कारण वहां बांग्लादेशियों की अचानक आमद ही बतायी जाती है। असम में 50 लाख से अधिक विदेशियों के होने पर सालों खूनी राजनीति हुई। वहां के मुख्यमंत्री भी इन नाजायज निवासियों की समस्या को स्वीकारते हैं पर इसे हल करने की बात पर चुप्पी छा जाती है। सुप्रीम कोर्ट के एक महत्वपूर्ण निर्णय के बाद विदेशी नागरिक पहचान कानून को लागू करने में राज्य सरकार का ढुलमुल रवैया राज्य में नए तनाव पैदा कर सकता है। अरुणाचल प्रदेश में मुस्लिम आबादी में बढ़ोतरी सालाना 135.01 प्रतिशत है, जबकि यहां की औसत वृद्धि 38.63 है । इसी तरह पश्चिम बंगाल की जनसंख्या बढ़ोतरी की दर औसतन 24 फीसद के आसपास है, लेकिन मुस्लिम आबादी का विस्तार 37 प्रतिशत से अधिक है। यही हाल मणिपुर व त्रिपुरा का भी है। जाहिर है, इसका मूल कारण यहां बांग्लादेशियों का निर्बाध आकर बसना और निवासी होने के कागजात हासिल करना है। कोलकता में तो ऐसे बांग्लादेशी स्मगलर और बदमाश बन कर व्यवस्था के सामने चुनौनी बने हुए हैं। राजधानी दिल्ली में सीमापुरी हो या यमुना पुश्ते की कई किलोमीटर में फैली झुग्गियां, यहां लाखों बांग्लादेशी डटे हैं। ये भाषा, खानपान, वेशभूषा के कारण स्थानीय बंगालियों से घुलमिल जाते हैं। बिजली, पानी की चोरी के साथ ही चोरी-डकैती, जासूसी व हथियारों की तस्करी में इनकी संलिप्तता बतायी जाती है। सीमावर्ती नोएडा व गाजियाबाद में भी यह ऐसे ही फैले हैं। इन्हें खदेड़ने के कई अभियान चले। कुछ सौ लोग गाहे-बगाहे सीमा से दूसरी ओर ढकेले भी गए लेकिन बांग्लादेश अपने ही लोगों को नहीं अपनाता नहीं है। फिर वे बगैर किसी दिक्कत के कुछ ही दिन बाद यहां लौट आते हैं। बताते हैं कि कई बांग्लादेशी बदमाशों का नेटवर्क इतना सशक्त है कि वे चोरी के माल को हवाला के जरिए उस पार भेज देते हैं । दिल्ली व करीबी नगरों में इनकी आबादी 10 लाख से अधिक हैं। सभी नाजायज बाशिंदों के आका सभी सियासती पार्टियों में हैं । इसी लिए इन्हें खदेड़ने के हर बार के अभियानों की हफ्ते-दो हफ्ते में हवा निकल जाती है। सीमा सुरक्षा बल यानी बीएसएफ की मानें तो भारत-बांग्लादेश सीमा पर स्थित आठ चेक पोस्टों से हर रोज कोई 6400 लोग वैध कागजों के साथ सीमा पार करते हैं और इनमें से 4480 कभी वापिस नहीं जाते। औसतन हर साल 16 लाख बांग्लादेशी भारत की सीमा में आ कर यहीं के हो कर रह जाते हैं। सरकारी आंकड़े के मुताबिक 2000 से 2009 के बीच कोई एक करोड़ 29 लाख बांग्लादेशी बाकायदा पासपोर्ट-वीजा लेकर भारत आए और वापिस नहीं गए। असम तो इनकी पसंदीदा जगह है। 1985 से अब तक महज 3000 अवैध आप्रवासियों को ही वापिस भेजा जा सका है। राज्य की अदालतों में अवैध निवासियों की पहचान और उन्हें वापिस भेजने के कोई 40 हजार मामले लंबित हैं। अवैध रूप से घुसने व रहने वाले स्थानीय लोगों में शादी करके यहां अपना समाज बना-बढ़ा रहे हैं। भारत में बस गए ऐसे करोड़ों से अधिक घुसपैठियों खाने-पीने, रहने, सार्वजनिक सेवाओं के उपयोग का न्यूनतम खर्च पचीस रपए रोज भी लगाया जाए तो यह राशि सालाना किसी राज्य के कुल बजट के बराबर होगी। जाहिर है देश में उपलब्ध रोजगार के अवसर, सब्सिडी वाली सुविधाओं पर से इन बिन बुलाए मेहमानों का नाजायज कब्जा हटा दिया जाए तो देश की गरीबी रेखा में खासी गिरावट आ जाएगी। इस घुसपैठ का सबका विकृत असर हमारे सामाजिक परिवेश पर पड़ रहा है। अपने पड़ोसी देशों से रिश्तों के तनाव का एक बड़ा कारण ये घुसपैठिए भी हैं। यानी घुसपैठिए हमारे सामाजिक, आर्थिक और अंतरराष्ट्रीय पहलुओं को आहत कर रहे हैं। नई सरकार इस समस्या से निबटने के लिए तत्काल अलग महकमा बनाये तो बेहतर होगा, जिसमें प्रशासन और पुलिस के अलावा मानवाधिकार व स्वयंसेवी संस्थाओं के लेग भी शामिल हों। यह किसी से छिपा नहीं है कि बांग्लादेश व पाकिस्तान सीमा पर मानव तस्करी का धंधा फल-फूल रहा है, जो सरकारी कारिंदों की मिलीभगत के बगैर संभव ही नहीं हैं। आमतौर पर इन विदेशियों को खदेड़ने का मुद्दा सांप्रदायिक रंग ले लेता है। यहां बसे विदेशियों की पहचान कर उन्हें वापिस भेजना जटिल प्रक्रिया है। कारण, बांग्लादेश अपने लोगों की वापसी सहजता से नहीं करेगा। दरअसल हमारे देश की सियासी पार्टियों द्वारा वर्ग विशेष के वोटों के लालच में इस सामाजिक समस्या को धर्म आधारित बना दिया जाता है। यदि सरकार इस दिशा में ईमानदारी से पहल करते है तो एक झटके में देश की आबादी का बोझ कम कर यहां के संसाधनों, श्रम और संस्कारों पर अपने देश के लोगों का हिस्सा बढ़ाया जा सकता है।
  

सोमवार, 26 मई 2014

It is too ealrly to say some thing about modi ji

मोदीजी को वक्त देना होगा आकलन के लिए
पंकज चतुर्वेदी
कुल पडे मतों के एक तिहाई से भी कम पाने के बावजूद बंपर  बहुमत के साथ सरकार बनाने वाले नरेन्द्र मोदी के विरोधी और समर्थक दोनेां ही अपने-अपने तरीके से गुणगान या अवगुण् बखान कर आपस में भिड़े हुए हैं। हालांकि अभी सरकार का गठन प्रारंभिक प्रक्रिया में है और अभी औपचारिक तौर पर मोदीजी कोई फैसला लेने की स्थिति में आए नहीं है, इसके बावजूद अपने-अपने तरह के पूर्वागृह सुनने, पढन्े को मिल रहे हैं। ‘अतिसर्वत्र वर्जते’- दोनों ही पक्ष फिलहाल अतीत-विलाप से ग्रस्त हैं और अभी केवल संभावनाओं, आषंकाओं पर ही आकलन, मूल्यांकन की होड़ लग गई है। इसमें कोई षक नहीं है कि यह चुनाव भारतीय राजनीति की दषा और दिषा बदलने का निर्णायक बिंदु है, इसमें नीतियां, चुनाव लड़ने की प्रक्रिया, सरकार चलाने के तरीके, जनभावनाओं का सम्मान, षासक वर्ग की मनसिकता में बदलाव जैसे कई महत्वपूर्ण बिदू उभर रहे हैं , सो जाहिर है कि सरकार या नेता को काम करने व अपनी नीति  को जाहिरा करने के लिए भी वक्त लगेगा।
कहते हैं अतीत इंसान का पीछा बामुष्किल छोड़ता है, बीता हुआ कल आने वाले कल के लिए मार्गदर्षक भी होता है- कुछ लोग अपने पुराने कामों की आलोचना- तारीफ से कुछ सीख कर संषोधन करते हैं तो वे आगे बढते हैं जो अपने अनुभवों से कुछ सीखने की जगह दंभ में डूुबे रहते है वे ‘कांग्रेस’ हो जाते हैं। जो अतीत को भुलाने का प्रयास करता है उसे अतीत में लोग भूल जाते हैं ।
जनसंदेश टाईम्स यू पी २७ मई २०१४ http://www.jansandeshtimes.in/index.php?spgmGal=Uttar_Pradesh/Lucknow/Lucknow/27-05-2014&spgmPic=9
मोदीजी के प्रषंसकों और विरोधियों दोनों के सामने उनका अतीत हे। असल में यह अनूठा संयोग है कि इंदिराजी के बाद कोई ऐस प्रधानमंत्री बना है, जिसने पहले से तय कर रखा थ कि उसे प्रधानमंत्री बनना ह, वरना जो भी इस ओहदे तक आए, वे अचानक, दुर्घनाग्रस्त या हालात के जोर से इस पद तक पहुेच। जाहिर है कि ऐसे लोगों को काफी समय इस जिम्मेदारी के अनुरूप खुद को ढालने में लगा होगा। मोदीजी के लिए उनकी पार्टी व उन्होनें खुद ने पहले से अपनी मंजिल तय कर रखी थी, फिर वे एक राजय के लंबे समय से मुख्यमंत्री रहे हैं, सो प्रषासन, नीति, जनभावना को समझना उनके लिए स्वाभाविक प्रक्रिया बन गया है। उनके दल में पद को ले कर फिलहाल कोई खंीचातान भी नहीं है, ना ही सहयोगी दलों के एजेंडे पर झुकने का दवाब।
RAAJ EXPRESS BOPAL 28-5-14 http://epaper.rajexpress.in/Details.aspx?id=216313&boxid=75043437

मोदीजी के विरोधियों का सबसे बडा सवाल 2002 के गुजरात दंगे हैं, और यह भय है कि राश्ट्रीय स्वयं सेवक संघ कहीं सरकार का रिमोट ना बन जाए। यहां गौर करना होगा कि सन 1984 के सिख विरोधी दंगों के बाद कोई सिख कांग्रेस का समर्थन करने की सोच भी नहीं सकता था, लेकिन उसके बाद पंजाब में उनकी कई दफे सरकार रही और और आज कांग्रेस के सिख समर्थक भाजपा से कम नहीं हैं। जहां तक धार्मिक आधार पर मतों के ध्रुवीकरण की बात रही, सभी राजनीतिक दल इस कीचड़ को अपने में मलते रहे है। केवल आषंका के आधार पर विरोध करने के बनिस्पत आगे की ओर देखना होगा। यदि वे इस मोर्चै पर असफल होते हैं तो आंकउे गवाह हैं कि मुल्क के 67 फीसदी लोगों ने उन्हें वोट नहीं दिया है और भारत का समाज कोई सोया हुआ, उनींदा समाज नहीं है, वह वक्त आने पर मुखर हो कर प्रतिक्रिया देता है। हां, अब इस बात के लिए मानसिक रूप से तैयार रहना होगा कि देष में गांधी-नेहरू युग अब समाप्ति पर है और इसके परिणामस्वरूप कुछ बदली हुई नीतियां षुरूआत में बेहद असहज होंगी और वे सफल हैं कि नहीं इसके लिए कम से कम एक साल का समय देना ही होगा। यहां यह भी याद रखना होगा कि मोदीजी ने अपने कार्यकाल में आपे राज्य में विó हिंदू परिशद , आरएसएस आदि संगठनों को कभी सत्ता में दखल देने की अनुमति नहीं दी। अब डर दोनो तरफ से है - कहीं बड़ा लक्ष्य पाने के लिए छोट हितों को भूला गया और अब असली चेहरा सामने आएगा ? या फिर जिस हिंदू राश्ट्र के सपने के साथ उत्साह दिखाया गया, वह सत्ता पर लंबे समय तक रहने की चाहत में दफन हो जाएगा ? बेहद जटिल है कुछ समय दिए बगैर इसका आकलन करना।
विरोधियों को दूसरा खतरा औद्योगिकीकरण, पूंजीपति घरानों को ले कर है। बीती सरकार के पंाच साल खाने, रोजगार, सूचना के अधिकर जैसे नारेां में बीता। विडबना थी कि जिस वर्ग के लिए नीतियां बनीं, या तो उन तक पहुंची नहीं या फिर उसका श्रैय नहीं पहूंचा। वहीं इन कल्याणकारी योजनाओं के लिए पैसा जुटाने के लिए जिस मध्य, युवा वर्ग को महंगाई, बेरोजगारी से जूझना पड़ा, उसके लिए ऐसी सभी योजनाएं बेमानी थीं। गंभीरता से देखें तो 1991 में मुक् वयापार और वैóीकरण के दौर की षुरूआत होने के बाद देष-दुनिया की कोई भी सरकार हो , उसकी नीतियां सबसिडी खतम करने, मूलभूत सुविधंए बढाने, बउ़े कारखाने और निवेष की ही रही है। और आज हालात ऐसे नहीं है कि उस नीति में कुछ बदलाव होगा। कुछ राजय की सरकारें इस लिए लोप्रिय है कि उनहोंने गरीब लोगों को बेहद कम दाम में अनाज, गाय, साईकिल, रेडियो सब बांट दिया है। जबकि इसका परिणाम यह हुआ कि हमोर मुल्क की ताकत हमारा मानव संसाधन अब निकम्मा हो गया और इसका खामियाजा जल्द ही हम भेागेगें, जब खेत ेमंे काम करने वाले तेुदू पत्ता, महुआ तोड़ने वाले नहीं मिलेेंगे। इस वाकियो को साझाा करने का इरादा यह है कि कई बार सामने से लोककल्याणकारी दिखने वाले सरकारी कदम दूरगामी तौर पर विध्वंसक होते हैं। अब देखना यह है कि मोदीजी की नीतियां किस तरह से लोककल्याणकारी रहती है और इसकी दिषा तय करने में दो साल लगना लाजिमी है और इस पर इतंजार करना ही विकल्प है, क्योंकि लोकसभा में विपक्ष बेहद कमजोर है।
इस बात का दवाब बना रहना जरूरी है कि जनता सब कुछ देख रही है और उसका दवाब है। इस बात की इंतजार भी जरूरी है कि इतना बड़ा बहुमत लाने वाला कोई ‘सर्वषक्तिमान’ नहीं है कि उसके द्वारा चुनाव सभा में किए गए सभी वायदे चुटकी बजाते पूरे हो जाएंगे। संयम की जरूरत सभी पक्षों को है - अतिमहत्वाकांक्षियों को, घोर  विरोधियों को  और स्वयं सरकार चलाने वाले मोदीजी को भी।

शनिवार, 24 मई 2014

Why so hurrry to valuvate Modi?



eksnhth dks oDr nsuk gksxk vkdyu ds fy,
iadt prqosZnh
dqy iMs erksa ds ,d frgkbZ ls Hkh de ikus ds ckotwn caij  cgqer ds lkFk ljdkj cukus okys ujsUnz eksnh ds fojks/kh vkSj leFkZd nksuska gh vius&vius rjhds ls xq.kxku ;k voxq. c[kku dj vkil esa fHkM+s gq, gSaA gkykafd vHkh ljdkj dk xBu izkjafHkd izfØ;k esa gS vkSj vHkh vkSipkfjd rkSj ij eksnhth dksbZ QSlyk ysus dh fLFkfr esa vk, ugha gS] blds ckotwn vius&vius rjg ds iwokZx`g lquus] i<Us dks fey jgs gSaA ^vfrloZ= otZrs*& nksuksa gh i{k fQygky vrhr&foyki ls xzLr gSa vkSj vHkh dsoy laHkkoukvksa] vk’kadkvksa ij gh vkdyu] ewY;kadu dh gksM+ yx xbZ gSA blesa dksbZ ‘kd ugha gS fd ;g pquko Hkkjrh; jktuhfr dh n’kk vkSj fn’kk cnyus dk fu.kkZ;d fcanq gS] blesa uhfr;ka] pquko yM+us dh izfØ;k] ljdkj pykus ds rjhds] tuHkkoukvksa dk lEeku] ‘kkld oxZ dh eufldrk esa cnyko tSls dbZ egRoiw.kZ fcnw mHkj jgs gSa ] lks tkfgj gS fd ljdkj ;k usrk dks dke djus o viuh uhfr  dks tkfgjk djus ds fy, Hkh oDr yxsxkA
THE SEA EXPRESS AGRA 25-5-14 http://theseaexpress.com/epapermain.aspx

dgrs gSa vrhr balku dk ihNk ckeqf’dy NksM+rk gS] chrk gqvk dy vkus okys dy ds fy, ekxZn’kZd Hkh gksrk gS& dqN yksx vius iqjkus dkeksa dh vkykspuk& rkjhQ ls dqN lh[k dj la’kks/ku djrs gSa rks os vkxs c<rs gSa tks vius vuqHkoksa ls dqN lh[kus dh txg naHk esa Mwqcs jgrs gS os ^dkaxzsl* gks tkrs gSaA tks vrhr dks Hkqykus dk iz;kl djrk gS mls vrhr esa yksx Hkwy tkrs gSa A eksnhth ds iz’kaldksa vkSj fojksf/k;ksa nksuksa ds lkeus mudk vrhr gsA vly esa ;g vuwBk la;ksx gS fd bafnjkth ds ckn dksbZ ,sl iz/kkuea=h cuk gS] ftlus igys ls r; dj j[kk Fk fd mls iz/kkuea=h cuuk g] ojuk tks Hkh bl vksgns rd vk,] os vpkud] nq?kZukxzLr ;k gkykr ds tksj ls bl in rd igqspA tkfgj gS fd ,sls yksxksa dks dkQh le; bl ftEesnkjh ds vuq:i [kqn dks <kyus esa yxk gksxkA eksnhth ds fy, mudh ikVhZ o mUgksusa [kqn us igys ls viuh eafty r; dj j[kh Fkh] fQj os ,d jkt; ds yacs le; ls eq[;ea=h jgs gSa] lks iz’kklu] uhfr] tuHkkouk dks le>uk muds fy, LokHkkfod izfØ;k cu x;k gSA muds ny esa in dks ys dj fQygky dksbZ [kahpkrku Hkh ugha gS] uk gh lg;ksxh nyksa ds ,tsaMs ij >qdus dk nokcA
eksnhth ds fojksf/k;ksa dk lcls cMk loky 2002 ds xqtjkr naxs gSa] vkSj ;g Hk; gS fd jk”Vªh; Lo;a lsod la?k dgha ljdkj dk fjeksV uk cu tk,A ;gka xkSj djuk gksxk fd lu 1984 ds fl[k fojks/kh naxksa ds ckn dksbZ fl[k dkaxzsl dk leFkZu djus dh lksp Hkh ugha ldrk Fkk] ysfdu mlds ckn iatkc esa mudh dbZ nQs ljdkj jgh vkSj vkSj vkt dkaxzsl ds fl[k leFkZd Hkktik ls de ugha gSaA tgka rd /kkfeZd vk/kkj ij erksa ds /kzqohdj.k dh ckr jgh] lHkh jktuhfrd ny bl dhpM+ dks vius esa eyrs jgs gSA dsoy vk’kadk ds vk/kkj ij fojks/k djus ds cfuLir vkxs dh vksj ns[kuk gksxkA ;fn os bl ekspSZ ij vlQy gksrs gSa rks vkadms xokg gSa fd eqYd ds 67 Qhlnh yksxksa us mUgsa oksV ugha fn;k gS vkSj Hkkjr dk lekt dksbZ lks;k gqvk] muhank lekt ugha gS] og oDr vkus ij eq[kj gks dj izfrfØ;k nsrk gSA gka] vc bl ckr ds fy, ekufld :i ls rS;kj jguk gksxk fd ns’k esa xka/kh&usg: ;qx vc lekfIr ij gS vkSj blds ifj.kkeLo:i dqN cnyh gqbZ uhfr;ka ‘kq:vkr esa csgn vlgt gksaxh vkSj os lQy gSa fd ugha blds fy, de ls de ,d lky dk le; nsuk gh gksxkA ;gka ;g Hkh ;kn j[kuk gksxk fd eksnhth us vius dk;Zdky esa vkis jkT; esa foó fganw ifj”kn ] vkj,l,l vkfn laxBuksa dks dHkh lRrk esa n[ky nsus dh vuqefr ugha nhA vc Mj nksuks rjQ ls gS & dgha cM+k y{; ikus ds fy, NksV fgrksa dks Hkwyk x;k vkSj vc vlyh psgjk lkeus vk,xk \ ;k fQj ftl fganw jk”Vª ds lius ds lkFk mRlkg fn[kk;k x;k] og lRrk ij yacs le; rd jgus dh pkgr esa nQu gks tk,xk \ csgn tfVy gS dqN le; fn, cxSj bldk vkdyu djukA
fojksf/k;ksa dks nwljk [krjk vkS|ksfxdhdj.k] iwathifr ?kjkuksa dks ys dj gSA chrh ljdkj ds iakp lky [kkus] jkstxkj] lwpuk ds vf/kdj tSls ukjska esa chrkA foMcuk Fkh fd ftl oxZ ds fy, uhfr;ka cuha] ;k rks mu rd igqaph ugha ;k fQj mldk JS; ugha igwapkA ogha bu dY;k.kdkjh ;kstukvksa ds fy, iSlk tqVkus ds fy, ftl e/;] ;qok oxZ dks egaxkbZ] csjkstxkjh ls tw>uk iM+k] mlds fy, ,slh lHkh ;kstuk,a csekuh FkhaA xaHkhjrk ls ns[ksa rks 1991 esa eqD o;kikj vkSj oSóhdj.k ds nkSj dh ‘kq:vkr gksus ds ckn ns’k&nqfu;k dh dksbZ Hkh ljdkj gks ] mldh uhfr;ka lcflMh [kre djus] ewyHkwr lqfo/ka, c<kus] cm+s dkj[kkus vkSj fuos’k dh gh jgh gSA vkSj vkt gkykr ,sls ugha gS fd ml uhfr esa dqN cnyko gksxkA dqN jkt; dh ljdkjsa bl fy, yksfiz; gS fd mugksaus xjhc yksxksa dks csgn de nke esa vukt] xk;] lkbZfdy] jsfM;ks lc ckaV fn;k gSA tcfd bldk ifj.kke ;g gqvk fd geksj eqYd dh rkdr gekjk ekuo lalk/ku vc fudEek gks x;k vkSj bldk [kkfe;ktk tYn gh ge Hkskxsxsa] tc [ksr seas dke djus okys rsqnw iRrk] egqvk rksM+us okys ugha feyssaxsA bl okfd;ks dks lk>kk djus dk bjknk ;g gS fd dbZ ckj lkeus ls yksddY;k.kdkjh fn[kus okys ljdkjh dne nwjxkeh rkSj ij fo/oald gksrs gSaA vc ns[kuk ;g gS fd eksnhth dh uhfr;ka fdl rjg ls yksddY;k.kdkjh jgrh gS vkSj bldh fn’kk r; djus esa nks lky yxuk ykfteh gS vkSj bl ij bratkj djuk gh fodYi gS] D;ksafd yksdlHkk esa foi{k csgn detksj gSA
bl ckr dk nokc cuk jguk t:jh gS fd turk lc dqN ns[k jgh gS vkSj mldk nokc gSA bl ckr dh bartkj Hkh t:jh gS fd bruk cM+k cgqer ykus okyk dksbZ ^loZ’kfDreku* ugha gS fd mlds }kjk pquko lHkk esa fd, x, lHkh ok;ns pqVdh ctkrs iwjs gks tk,axsA la;e dh t:jr lHkh i{kksa dks gS & vfregRokdkaf{k;ksa dks] ?kksj  fojksf/k;ksa dks  vkSj Lo;a ljdkj pykus okys eksnhth dks HkhA

बुधवार, 21 मई 2014

examination killing joy of learning

सीखने के आनंद को समाप्त करती परीक्षाएं
पंकज चतुर्वेदी
HINDUSTAN, HINDI 26-5-14 http://paper.hindustantimes.com/epaper/viewer.aspx


मध्यप्रदेष में बोर्ड के इम्तेहान के नतीजे आ गए हैं। छतरपुर जैसे छोटे से जिले में अभी तक चार बच्चे मौत को गले लगा चुके हैं। राज्य में यह आंकडा 10 से ऊपर हो गया है। अभी सीबीएसई के नतीेज आने वाले हैं और बच्चों के मन में धुक धुकी लगी है। साफ जाहिर है कि बच्चे ना तो कुछ सीख रहे हैं और ना ही जो पढ रहे हैं उसका आनंद ले पा रहे हैं, बस एक ही धुन है या दवाब है कि परीक्षा में जैसे-तैसे अव्वल या बढि़या नंबर आ जाएं। कई बच्चों का खाना-पीना छूट गया है । याद करें चार साल पहले के अखबारों में छपे समाचारों को, जिनमें एनसीईआरटी और सीबीएसई के हवाले से कई समाचार छपवे थे कि अब बच्चों को परीक्षा के भूत से मुक्ति मिल जाएगी । अब ऐसी नीतियां व पुस्तकें बन गई हैं जिन्हें बच्चे मजे-मजे पढ़ेंगे । घोशणा की थी कि 10वीं के बच्चों को अंक नहीं ग्रेड दिया जाएगा, लेकिन इस व्यवस्था से बच्चों पर दवाब में कोई कमी नहीं आई है। यह विचारणीय है कि जो षिक्षा बारह साल में बच्चों को अपनी भावनाओं पर नियंत्रण करना ना सिखा सके, जो विशम परिस्थिति में अपना संतुलन बनाना ना सिखा सके, वह कितनी प्रासंगिक व व्यावहारिक है ?
RAJ EXPRESS , BHOPALhttp://epaper.rajexpress.in/Details.aspx?id=214829&boxid=7817312

आज जमीनी हकीकत वही है । बोर्ड के परीक्षार्थी बेहतर स्थानों पर प्रवेष के लिए चिंतित हैं तो दूसरे बच्चे पसंदीदा विशय पाने के दवाब में । एक तरफ स्कूलों को अपने नाम की प्रतिश्ठा की चिंता है तो दूसरी ओर हैं मां-बाप के सपने । बचपन, षिक्षा, सीखना सब कुछ इम्तेहान के सामने कहीं गौण हो गया है । रह गई हैं तो केवल नंबरों की दौड़, जिसमें धन, धर्म , षरीर, समाज सब कुछ दांव पर लग गया है ।  बारहवी के बच्चे कालेज में प्रवेष के लिए आयोजित हुई अनगिनत इम्तेहानों के लिए भी चिंतित हैं। एक तरफ बोर्ड का दवाब तो दूसरे तरफ दीगर प्रवेष परीक्षाओं का ।
क्या किसी बच्चे की योग्यता, क्षमता और बुद्धिमता का तकाजा महज अंकों का प्रतिषत ही है ? वह भी उस परीक्षा प्रणाली में , जिसकी स्वयं की योग्यता संदेहों से घिरी हुई है । सीबीएसई की कक्षा 10 में पिछले साल दिल्ली में हिंदी में बहुत से बच्चों के कम अंक रहे । जबकि हिंदी के मूुल्यांकन की प्रणाली को गंभीरता से देखंे तो वह बच्चों के साथ अन्याय ही है । कोई बच्चा ‘‘हैं’’ जैसे षब्दो ंमें बिंदी लगाने की गलती करता है, किसी केा छोटी व बड़ी मात्रा की दिक्कत है । कोई बच्चा ‘स’ , ‘ष’ और ‘श’ में भेद नहीं कर पाता है । स्पश्ट है कि यह बच्चे की महज एक गलती है, लेकिन मूल्यांकन के समय बच्चे ने जितनी बार एक ही गलती को किया है, उतनी ही बार उसके नंबर काट लिए गए । यानी मूल्यांकन का आधार बच्चों की योग्यता ना हो कर उसकी कमजोरी है । यह सरासर नकारात्मक सोच है, जिसके चलते बच्चों में आत्महत्या, पर्चे बेचने-खरीदने की प्रवृति, नकल व झूठ का सहारा लेना जैसी बुरी आदतें विकसित हो रही हैं । षिक्षा का मुख्य उद्देष्य इस नंबर- दौड़ में गुम हो कर रह गया है ।
छोटी कक्षाओं में सीखने की प्रक्रिया के लगातार नीरस होते जाने व बच्चों पर पढ़ाई के बढ़ते बोझ को कम करने के इरादे से मार्च 1992 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने देष के आठ षिक्षाविदों की एक समिति बनाई थी, जिसकी अगुआई प्रो. यषपाल कर रहे थे । समिति ने देषभर की कई संस्थाओं व लोगों से संपर्क किया व जुलाई 1993 में अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी । उसमें साफ लिखा गया था कि बच्चों के लिए स्कूली बस्ते के बोझ से अधिक बुरा है ना समझ पाने का बोझ । सरकार ने सिफारिषों को स्वीकार भी कर लिया और एकबारगी लगा कि उन्हें लागू करने के लिए भी कदम उठाए जा रहे हैं । फिर देष की राजनीति मंदिर-मस्जद जैसे विवादों में ऐसी फंसी कि उस रिपोर्ट की सुध ही नहीं रही ।
वास्तव में परीक्षाएं आनंददायक षिक्षा के रास्ते में सबसे बड़ा रोड़ा है । इसके स्थान पर सामूहिक गतिविधियों को प्रोत्साहित व पुरस्कृत किया जाना चाहिए । यह बात सभी षिक्षाषास्त्री स्वीकारते हैं ,इसके बावजूद बीते एक दषक में कक्षा में अव्वल आने की गला काट में ना जाने कितने बच्चे कुंठा का षिकार हो मौत को गले लगा चुके हैं । हायर सैकेंडरी के रिजल्ट के बाद ऐसे हादसे सारे देष में होते रहते हैं । अपने बच्चे को पहले नंबर पर लाने के लिए कक्षा एक-दो में ही पालक युद्ध सा लड़ने लगते हैं ।
कुल मिला कर परीक्षा व उसके परिणामों ने एक भयावह सपने, अनिष्चितता की जननी व बच्चों के नैसर्गिक विकास में बाधा का रूप  ले लिया है । कहने को तो अंक सूची पर प्रथम श्रेणी दर्ज है, लेकिन उनकी आगे की पढ़ाई के लिए सरकारी स्कूलों ने भी दरवाजों पर षर्तों की बाधाएं खड़ी कर दी हैं । सवाल यह है कि षिक्षा का उद्देष्य क्या है - परीक्षा में स्वयं को श्रेश्ठ सिद्ध करना, विशयों की व्यावहारिक जानकारी देना या फिर एक अदद नौकरी पाने की कवायाद ? निचली कक्षाओं में नामांकन बढ़ाने के लिए सर्व षिक्षा अभियान और ऐसी ही कई योजनाएं संचालित हैं । सरकार हर साल अपनी रिपोर्ट में ‘‘ड्राप आउट’’ की बढ़ती संख्या पर चिंता जताती है । लेकिन कभी किसी ने यह जानने का प्रयास नहीं किया कि अपने पसंद के विशय या संस्था में प्रवेष ना मिलने से कितनी प्रतिभाएं कुचल दी गई हैं । एम.ए और बीए की डिगरी पाने वालों में कितने ऐसे छात्र हैं जिन्होंने अपनी पसंद के विशय पढ़े हैं । विशय चुनने का हक बच्चों को नहीं बल्कि उस परीक्षक को है जो कि बच्चों की प्रतिभा का मूल्यांकन उनकी गलतियों की गणना के अनुसार कर रहा है ।
वर्ष 1988 में लागू शिक्षा नीति (जिसकी चर्चा नई षिक्षा नीति के नाम से होती रही है) के 119 पृष्ठों के प्रचलित दस्तावेज से यह ध्वनि निकलती थी कि अवसरों की समानता दिलानेे तथा खाईयों को कम करके बुनियादी परिवर्तन से शिक्षा में परिवर्तन से आ जाएगा । दस्तावेज में भी शिक्षा के उद्देश्यों पर विचार करते हुए स्त्रोतों की बात आ गई है । उसमें बार-बार आय व्यय तथा बजट की ओर इशारे किए गए थे। इसे पढ़ कर मन में सहज ही प्रश्न उठता था कि देश की समूची आर्थिक व्यवस्था को निर्धारित करते समय ही शिक्षा के परिवर्तनशील ढ़ांचे पर विचार हो जाएगा । सारांश यह है कि आर्थिक ढांचा पहले तय होगा तब शिक्षा का ।  कई बजट आए और औंधे मुंह गिरे । लेकिन देश की आर्थिक दशा और दिशा का निर्धारण नहीं हो पाया । ऐसा हुआ नहीं सो शिक्षा में बदलाव का यह दस्तावेज भी किसी  सरकारी दफ्तर की धूल से अटी फाईल की तरह कहीं गुमनामी के दिन काट रहा है।
आजादी के बाद हमारी सरकार ने शिक्षा विभाग को कभी गंभीरता से नहीं लिया । इसमें इतने प्रयोग हुए कि आम आदमी लगातार कुंद दिमाग होता गया । हम गुणात्मक दृष्टि से पीछे जाते गए, मात्रात्मक वृद्वि भी नहीं हुई । कुल मिला कर देखें तो षिक्षा प्रणाली का उद्देष्य और पाठ्यक्रम के लक्ष्य एक दूसरे में उलझ गए व एक गफलत की स्थिति बन गई । नई षिक्षा नीति को बनाने वाले एक बार फिर सरकार में हैं । षिक्षा की दिषा व दषा तय करने वाली प्रो. यषपाल की टीम की एक बार फिर पूछ बढ़ गई है । एनसीईआरटी से आए रोज बयान आ रहे हैं जो कि षिक्षा व परीक्षा व्यवस्था को बदलने के सपने दिखा रहे हैं । लेकिन इस साल की प्रतिभाएं तो नंबरों की होड़ में होम हो गई हैं । क्या ये लोग अपने पुराने अनुभवों से कुछ सीखते हुए बच्चों की बौद्धिक समृद्धता व अपने प्रौढ़ जीवन की चुनौतियों से निबटने की क्षमता के विकास के लिए कारगर कदम उठाते हुए नंबरों की अंधी दौड़ पर विराम लगाने की सुध लेंगे ?

पंकज चतुर्वेदी
नेषनल बुक ट्रस्ट
5 वसंत कुंज इंस्टीट्यूषनल एरिया फेज-2, वसंत कुंज नई दिल्ली-110070
नई दिल्ली 110016 9891928376ए 0120.6546008

मंगलवार, 20 मई 2014

my new book for children - ber kaa ped

भारत ज्ञान विज्ञान समिति द्वारा प्रकाशित मेरी नई किताब , जो आज ही मिली हें, कीमत ३५ रुपये हें, उम्मीद करता हूँ कि खरीद कर जरुर पढेंगे. इस पांडुलिपि को कुछ साल पहले साक्षरता निकेतन, लखनऊ कि सालान राष्ट्रीय प्रतियोगिता में पुरस्कार भी मिला था 

रविवार, 18 मई 2014

Why not nationalisation of schooling ?

स्कूली शिक्षा के राष्ट्रीयकरण की जरूरत

मुद्दा पंकज चतुव्रेदी
दिल्ली-एनसीआर में नर्सरी स्कूलों में एडमिशन को लेकर बवाल हो रहा है। हालात इतने बदतर हैं कि तीन साल के बच्चे को स्कूल में दाखिल करवाने के लिए कई महीनों से हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में मुकदमें चल रहे हैं और न तो पालक और न ही स्कूल इससे संतुट हैं। नर्सरी का दाखिला आईआईटी की फीस से भी महंगा हो गया है। कुल मिलाकर देखें तो देश में स्कूली शिक्षा पर सरकार और समाज बेशुमार खर्च कर रहे हैं, फिर भी कोई संतुष्ट नहीं है। देश में आज भी प्राइमरी स्तर के 75 फीसद स्कूल सरकारी हैं और वहां पढ़ाई की गुणवत्ता इतनी खराब है कि 45 फीसद से ज्यादा बच्चे कक्षा पांच के आगे पढ़ने के लायक नहीं होते हैं। राजधानी से सटे गाजियाबाद के कई नामचीन स्कूलों में बढ़ी फीस का झंझट अब थाना-पुलिस तक पहुंच गया है। स्कूल वाले बच्चों को प्रताड़ित कर रहे हैं, तो अभिभावक पुलिस के पास गुहार लगा रहे हैं। 
RASHTRIY SAHARA 18-5- 2014 http://www.rashtriyasahara.com/epapermain.aspx?queryed=9

माहौल ऐसा हो गया है कि बच्चों के मन में स्कूल या शिक्षक के प्रति कोई श्रद्धा नहीं रह गई है। वहीं स्कूल वालों की बच्चों के प्रति न तो संवेदना रह गई है और न ही सहानुभूति। शिक्षा का व्यापारीकरण कितना खतरनाक होगा, इसका अभी किसी को अंदाजा नहीं है। लेकिन मौजूदा पीढ़ी जब संवेदनहीन हो कर अपने ज्ञान को महज पैसा बनाने की मशीन बना कर इस्तेमाल करना शुरू करेगी, तब समाज और सरकार को इस भूल का एहसास होगा। साफ जाहिर होता है कि शिक्षा व्यवस्था अराजकता और अंधेरगर्दी के ऐसे गलियारे में खड़ी है जहां से एक अच्छा नागरिक बनने की उम्मीद करना बेमानी ही होगा। ऐसे में एक ही विकल्प शेष है- सभी को एक समान स्कूली शिक्षा। यह सर्वविदित है कि प्राथमिक शिक्षा किसी बच्चे के भविष्य की बुनियाद है। हमारे देश में प्राथमिक स्तर पर ही शिक्षा लोगों का भविष्य तय कर रही है। एक तरफ कंप्यूटर, एसी और खिलौनों से सज्जित स्कूल हैं, तो दूसरी ओर ब्लैकबोर्ड, शौचालय जैसी मूलभूत जरूरत को तरसते बच्चे। स्थिति यह है कि दो-ढाई साल के बच्चों का प्री- स्कूल प्रवेश चुनाव लड़ने के बराबर कठिन माना जाता हैं। यदि जुगाड़ लगा कर कोई मध्यम वर्ग का बच्चा इन बड़े स्कूलों में पहुंच भी जाए तो वहां के ढकोसले-चोंचले झेलना उसके बूते के बाहर होता है। बच्चे के जन्मदिन पर स्कूल के सभी बच्चों में कुछ वितरित करना या ‘ट्रीट’ देना, सालाना जलसों के लिए स्पेशल ड्रेस बनवाना, साल भर में एक-दो पिकनिक या टूर- ये ऐसे व्यय हैं जिन पर हजारों का खर्च यूं ही हो जाता है। फिर स्कूल की किताबें, वर्दी, जूते आदि भी स्कूल द्वारा तयशुदा दुकानों से खरीदने पर स्कूल संचालकों के वारे-न्यारे होते रहते हैं। कोई 16 साल पहले केंद्र सरकार के कर्मचारियों के पांचवें वेतन आयोग के समय दिल्ली सरकार ने फीस बढ़ोतरी के मुद्दे पर मानव संसाधन विकास मंत्रालय से अवकाश प्राप्त सचिव जेवी राघवन की अध्यक्षता में नौ सदस्यों की एक कमेटी गठित की थी। इस समिति ने दिल्ली स्कूल एक्ट 1973 में संशोधन की सिफारिश की थी। समिति का सुझाव था कि पब्लिक स्कूलों को बगैर लाभ-हानि के संचालित किया जाना चाहिए। कमेटी ने पाया था कि कई स्कूल प्रबंधन छात्रों से उगाही फीस का इस्तेमाल अपने दूसरे व्यवसायों में कर रहे हैं। राघवन कमेटी ने ऐसे स्कूलों के प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की अनुशंसा भी की थी। कमेटी ने सुझाव दिया था कि छात्रों से वसूले धन का इस्तेमाल केवल छात्रों और शिक्षकों की बेहतरी पर ही किया जाए। उसके बाद पांच साल पहले छठें वेतन आयोग के बाद भी सरकार ने बंसल कमेटी गठित की, जिसकी सिफारियों राघवन कमेटी की ही तरह थीं। ये रिपोर्ट बानगी हैं कि स्कूली-शिक्षा अब एक नियोजित धंधा बन चुकी है। बड़े पूंजीपति, औद्योगिक घराने, माफिया, राजनेता अपने धन को काला-गोरा करने के लिए स्कूल खोल रहे हैं। वहां किताबों, वर्दी की खरीद, मौज-मस्ती की पिकनिक या हॉबी क्लास, सब मुनाफे का व्यापार बन चुका है। इसके बावजूद इन अनियमितताओं की अनदेखी केवल इसलिए है क्योंकि इस खेल में नेताओं की सीधी साझेदारी है। इसकी सबसे बड़ी वजह यह है कि शिक्षा का सरकारी सिस्टम जैसे जाम हो गया है। निर्धारित पाठ्यक्रम की पुस्तकें मांग के अनुसार उपलब्ध कराने में एनसीईआरटी सरीखी सरकारी संस्थाएं बुरी तरह फेल रही हैं। जबकि प्राइवेट या पब्लिक स्कूल अपनी मनमानी किताबें छपवा कर कोर्स में लगा रहे हैं। यह पूरा धंधा इतना मुनाफे वाला बन गया है कि अब छोटे-छोटे गांवों में भी पब्लिक या कान्वेंट स्कूल कुकुरमुत्तों की तरह उग रहे हैं। कच्ची झोपड़ियों, गंदगी के बीच, बगैर माकूल बैठक व्यवस्था के कुछ बेरोजगार एक बोर्ड लटका कर प्राइमरी स्कूल खोल लेते हैं। इन ग्रामीण स्कूलों के छात्र पहले तो वे लोग होते हैं जिनके पालक पैसे वाले होते हैं और अपने बच्चों को सरकारी स्कूल में भेजना हेठी समझते हैं। फिर कुछ ऐसे अभिभावक, जो खुद तो अनपढ़ होते हैं लेकिन अपने बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाने की महत्वाकांक्षा पाले होते हैं, अपना पेट काट कर ऐसे पब्लिक स्कूलों में अपने बच्चों को भेजने लगते हैं। कुल मिलाकर दोष जर्जर सरकारी शिक्षा व्यवस्था के सिर पर जाता है जो आम आदमी का विास पूरी तरह खो चुकी है। विश्व बैंक की एक रपट कहती है कि भारत में 6- 10 साल के कोई 3.2 करोड़ बच्चे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं। रपट में यह भी कहा गया है कि भारत में शिक्षा को लेकर बच्चों-बच्चों में खासा भेदभाव है। लड़कों-लड़कियों, गरीब-अमीर और जातिगत आधार पर बच्चों के लिए पढ़ाई के मायने अलग-अलग हैं। रपट के अनुसार 10 वर्ष तक के सभी बच्चों को स्कूल भेजने के लिए 13 लाख स्कूली कमरे बनवाने होंगे और 740 हजार नए शिक्षकों की जरूरत होगी। सरकार के पास खूब बजट है और उसे निगलने वाले कागजी शेर भी। लेकिन मूल समस्या स्कूली शिक्षा में असमानता की है। प्राथमिक स्तर की शिक्षण संस्थाओं की संख्या बढ़ना कोई बुरी बात नहीं है, लेकिन ‘देश के भविष्य’
की नैतिक शिक्षा का पहला आदर्श शिक्षक जब तीन हजार पर दस्तखत कर बमुश्किल पांच-छह सौ रपए का भुगतान पा रहा हो तो उससे किस स्तर के ज्ञान की उम्मीद की जा सकती है। जब पहली कक्षा के ऐसे बच्चे को, जिसे अक्षर ज्ञान भी बमुश्किल है, उसे कंप्यूटर की ट्रेनिंग दी जाने लगे, महज इसलिए कि पालकों से इस नाम पर अधिक फीस घसीटी जा सकती है, तो किस तरह तकनीकी शिक्षा प्रसार की बात सोची जा सकती है। स्तरीय प्राथमिक शिक्षा का लक्ष्य पाने का केवल एकमात्र तरीका है- स्कूली शिक्षा का राष्ट्रीयकरण। अपने दो या तीन वर्ग किमी के दायरे में आने वाले स्कूल में प्रवेश पाना सभी बच्चों का हक हो, सभी स्कूलों की सुविधाएं, पुस्तकें, फीस एकसमान हो, मिडडे मील सभी को एक जैसा मिले अैार कक्षा आठ तक के सभी स्कूलों में शिक्षा का माध्यम मातृ-भाषा हो। यह सब करने में खर्चा भी अधिक नहीं है, बस जरूरत होगी तो इच्छाशक्ति की।
  

शनिवार, 17 मई 2014

self help for water in karnatka



viuk gkFk txUukFk
iadt prqosZnh

dHkh lksuk mxyus okyh /kjrh dgykus okys dksykj ¼ns’k dh lcls iqjkuh Lo.kZ [knkuksa dh /kjrh] tks vc can gks xbZ gSa ½ ds ikl dk NksVk lk xkao pqyqoukgYyh esa uk rks dksbZ iz;ksx’kkyk gS vkSj uk gh dksbZ izf’k{k.k laLFkku ( fQj Hkh ;gka ns’k ds dbZ jkT;ksa ds vQlj o ty fo’ks”kK] Lo;alsoh laLFkkvksa ds yksx dqN lh[kus vk jgs gSa A Åaps igkM+ksa o pV~Vkuksa ds chp clk ;g xkao] dukZVd ds fdlh nwljs fiNM+s xkaoksa dh rjg gqvk djrk Fkk A chrs nl lky rks blds fy, csgn =klnhiw.kZ jgs A xkao ds ,dek= rkykc dh rygVh esa njkjsa iM+ xbZ Fkha] ftlls mlesa ckfj’k dk ikkuh fVdrk gh ugha Fkk A  rkykc lw[kk rks xkao ds lHkh dq,a& gSaM iai o V~;wc osy Hkh lw[k x, A lky ds lkr&vkB eghus rks lkjk xkao egt ikuh tqVkus esa [kpZ djrk Fkk A [ksrh&fdlkuh pkSiV Fkh A
nSfud HkkLdj] jljax 18 ebZ 2014  http://epaper.bhaskar.com/magazine/rasrang/211/18052014/mpcg/1/
xkao ds ,d Lo;a lgk;r lewg ^^ xtZu** us bl =klnh ls yskxksa dks mcjus dk ftEEkk mBk;k A yksxksa dks ;g le>kkus esa vkB eghus yxs fd cxSj ljdkjh Bsds o bathfu;j ds xkao okys Hkh dqN dj ldrs gSa A tc vui<+ xzkeh.kksa dks muds ikjaifjd Kku dk okLrk fn;k rks os ekus fd  Hkwty dks fjpktZ dj xkao dks ty leL;k ls eqDr fd;k tk ldrk gS a fQj lekt ds gj oxZ ds izfrfuf/kRo ds lkFk ^^ Jh xaxkfEcdk rkykc fodkl lfefr** dk xBu gqvk A >hy dh lQkbZ] xgjhdj.k o ejEer dh iwjh ;kstuk xkao okyksa us gh cukbZ o bl ij ukS yk[k 58 gtkj ds laHkkfor O;; dk izLrko cuk dj jkT; ljdkj dks Hkst fn;k x;k A ctV dks eatwjh feyh rks xkao okyss rkykc dks u;k :Ik nsus ds fy, ,dtqV gks x, A
fnu&jkr dke gqvk A] nks pSd&Mse vkSj rhu cksYMj&Mse Hkh cuk fn, x, A lkFk gh ugj dh [kqnkbZ] ikuh ds cgko ij fu;a=.k ds fy, ,d jsxqysVj Hkh yxk fn;k x;k A ;gh ugha xkao ds Ldwy vkSj eafnj ds vklikl ds xgjs xM~<ksa dks Hkh Hkj fn;k x;k A frl ij Hkh ljdkj ls feys iSlksa esa ls lkB gtkj :Ik, cp Hkh x, A ;gka esgur&etnwjh dk lkjk dke xkao okyksa us fey dj fd;k A [kqnkbZ o <qykbZ ds fy, nks ts-lh-ch- e’khusa vkSj rhu VsªDVj fdjk, ij fy, x, A [kpsZ dk fooj.k fu;fer :Ik ls ,d dkxt ij fy[k dj lkoZtfud dj fn;k tkrk A ugj ds ikl cxhpk Hkh cu x;k gS A vc lkjs xkao ds Hkwty L=ksrksa esa Ik;kZIr ikuh gS] oghas [ksrksa dks csgrjhu rjkoV fey jgh gS A
;g ,d lq[kn ckr gS fd i<+s&fy[ks gh ugha BsB nsgkrh fdlku Hkh vc rkykcksa dks cpkus ds fy, lkspus yxs gSa A fpdcYykiqj ds ikl fLFkr ^Mksìkejyh gYyh* rkykc dh lQkbZ us izns'k Hkj esa u;k vk;ke yk fn;k gS A 81 ,dM+ esa QSys bl rkykc dk lQkbZ vkSj xgjhdj.k ds fy, flapkbZ foHkkx us 55 yk[k #i, dh ;kstuk cukbZ Fkh A fQj  xkao okyksa us r; fd;k fd lQkbZ dk ftEek ljdkj dk gksxk vkSj fudyh xkn dh <qykbZ fdlku eq¶r esa djsaxs A bl rjg ifj;kstuk dh dher ?kV dj 12 yk[k jg xbZ A nwljh rjQ fdlkuksa dks FkksM+s ls Je ds cnys cs'kdherh [kkn fu'kqYd fey xbZ A lun jgs ;g rkykc 20 xkaoksa dh ikuh dh t:jr iwjh djrk gS A bldh lQkbZ xr 80 lkyksa ls ugha gqbZ Fkh A blesa ls 72]500 fdyks xkn fudkyh xbZ A
lu 1997 esa ukxjdsjs rky iwjh rjg lw[k x;k A fQj ‘kgj dk dpjk vkSj xans ikuh dh fudklh bl vksj dj nh xbZ A vc ty ladV ls csgky yksxksa dks le> esa vk x;k fd rkykcksa ds cxSj ikuh feyuk eqf’dy gh gS A rkykc ds fdukjs fu;fer lSj djus okys dqN yksxksa us blds iqjkus fnu ykSVkus dh ‘kq:vkr dh A ;s yksx gj lqcg ikSus Ng cts ls ikSus vkB cts rd ;gka vkrs o rkykc dh xanxh lkQ djrs A ns[krs gh ns[krs lqcg vkus okyksa dh la[;k lSadM+ksa esa gks xbZ A ikl ds daxksfM;Iik gkbZ Ldwy ds ,ulhlh ds cPps Hkh bl vfHk;ku esa ‘kkfey gks x, A fdlh us VªsDVj ns fn, rks dksbZ Mhty dh O;ooLFkk djus yxk A ns[krs gh ns[krs ukxjdsjs dh rLohj gh cny xbZ A rLohj rks Hkwty dh Hkh cnyh& tks uy dwi csdkj gks x, Fks] vkt muesa ls ty/kkjk cg jgh gSa A
rqedwj ftys ds fpDdsu;kdugYyh Cykd dk dka/khdsjs xkao lekt }kjk ty&izca/ku dk vuwBk o vuqdj.kh; mnkgj.k gS A bl xkao esa ghjsdsjs vkSj uksUukohukdsjs uke ds nsk rkykc gSa A oSls rks bu ij ljdkj ds jktLo] eNyh] flapkbZ foHkkx ds Hkh gd gSa] ysfdu blesa ikuh dh vkod o tkod dh ,d&,d cwan dk fglkc&fdrkc xkao okys gh djrs gSa A crk;k tkrk gS fd 17oha lnh esa fufeZr bu rkykcksa ds ty dh lkekftd O;oLFkk rHkh ls pyh vk jgh gS A ;s fu;e ih<+h&nj&ih<+h ekSf[kd pys vkrs jgs A 1930 esa bUgsa ^dsjs iqLrd* ;kuh rkykc dh fdrkc ds uke ls Nkik Hkh x;k A xkao esa lHkh dks leku o lgt ikuh feys] fdrus ty dh miyC/krk ij fdl dke ds fy, ikuh dk mi;ksx gksxk \ [ksrh ds cfuLir ?kjsyw dke ds fy, ikuh dh izkFkfedrk] rkykc o mldh ugj dh fu;fer ejEer o j[kj[kko ds lHkh elyksa ij fdrkc esa Li”B dk;ns&dkuwu gSa A rkykc ls feyus okyh eNyh o vU; mRiknksa ls gksus okyh vk; dk bLrseky xkao ds lkoZtfud fodkl dk;ksZa esa djus ij ;gka dHkh dksbZ fookn ugha gqvk A
dbZ ckj csgrj izkjaHk ij gekjk cl ugha gksrk gS] ysfdu vius iz;klksa ls lq[kn lekiu ge vo’; lqfuf’pr dj ldrs gSa A ;s mnkgj.k lekt dks viuh ‘kfDr o {kerk dks igpkuus esa enn rks djsaxs gh] gekjs tu izfrfuf/k;ksa dks Hkh le>kbZ’k nsaxs fd muds >kals esa vkus dh txg tukrk vius gkFkksa ij Hkjkslk djuk lh[k jgh gS A lun jgs fd ns’k ds dbZ xkaoksa esa Lo;a lgk;rk lewg ds xBu o muds lQy lapkyu ds mnkgj.k lkeus vk jgs gSa aA ;s lewg ty&izca/ku esa egRoiw.kZ Hkwfedk fuHkk ldrs gSa A t:jr dsoy bl ckr dh gSa fd mUgsa ;g crk fn;k tk, fd deh ikuh dh ugha] ty izca/ku dh gS vkSj ;g izca/ku] ljdkj ugha lekt ds gkFkksa gh laHko gS A

iadt prqosZnh
3 ,l ,Q@865 ‘kkyhekj xkMZu ,DlVsa’ku&1] lkfgckckn] xkft;kckn&201005 laidZ & 9891928376

मेरे बारे में